मलाई से देसी घी निकालने का तरीका

, , 1 Comment

आप रोजाना दूध के ऊपर जमी मलाई को एक बर्तन में फ्रिज में इक्कठा कर लें, और थोड़ा ज़्यादा मलाई एकत्रित होने पर आप नीचे दिए हुई तरीके से घर पर देसी घी बना सकते हैं जो 100% शुद्ध होगा..

पूजा पाठ हो या भोजन भारत में देसी घी की जरुरत दोनों जगह है, शुद्धता घर में बनी हर चीज में होती है यह तो निश्चित है। मलाई हर घर में होती है तब क्यों न इस आसान विधि से शुद्ध देसी घी घर में ही बना लिया जाए, घर पर मलाई से बने घी को जब आप किसी भी दाल और फुल्के या रोटी पर लगा कर सर्व करेंगी तब शुद्ध घी की सुगंध खाने वाले का मन मोह लेगी…

इस डेयरी उत्पाद में मट्ठा और कैसिइन के साथ-साथ लैक्टोज जैसे दूध के ठोस पदार्थ होते हैं। स्पष्ट मक्खन या घी भी विटामिन ए और के की तरह समृद्ध है, जो जोड़ों की चिकनाई में सहायता करता है और स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है।  Malai se bna ghee

देसी घी बनाने की सामग्री:-

  • मलाई – ½ किलो या इच्छानुसार
  • सूखा आटा – 2 चम्मच

देसी घी बनाने की विधि:-

 Malai se bna ghee a

दूध के ऊपर जो मिलाई बन जाती है उसको उतार कर फ्रिज में स्टोर कर लिया करें, इससे ही मक्खन और घी बनेगा।

मलाई को बलेंडर से अच्छे से फेंट कर मक्खन बना लें।

(फेंटते समय मलाई में थोड़ा थोड़ा पानी डालते रहें, ऐसा करने से मक्खन जल्दी अलग हो जाता है)

 Malai se bna ghee b

(धयान रहे ठण्ड के मौसम में गरम और गर्मी के मौसम में ठंडा पानी डालें)

एक मोटे तले वाली कढ़ाई में मक्खन को धीमी आँच पर पकाएं।

जब घी अलग होने लगे कढ़ाई में 2 चम्मच सूखा आटा डाल दें।

 Malai se bna ghee c

धीरे धीरे घी ऊपर नज़र आने लगेगा और आटा नीचे बैठने लगेगा।

जब आटा नीचे बैठ जाए तब गैस बंद कर दें और घी को ठंडा होने रख दें।

हल्का ठंडा होने पर घी को छलनी से एक बर्तन में छान लें।

आपका शुद्ध देसी घी तैयार है, ज़रूरत अनुसार इस्तेमाल करें।

उपयोगी सुझाब:

घी छानने के बाद जो चीज बचती है उसको आप खोया (मावा) की तरह इस्तेमाल कर स्वादिष्ट व्यंजन बना सकते हैं।

हमेशा मक्खन को डिम आँच पर ही पकायें, तेज आँच पर पकाने से घी जल जाया करता है।

घी बनाते समय मक्खन को बीच-बीच में लगातार चलाते रहें जिस्से मावा जलेगा नहीं।

देसी घी के आयुर्वेदिक लाभ :-

शुद्ध देसी घी अपनी अद्भुत सुगंध के लिए भारतीय भोजन का एक जरूरी अंग तो है ही साथ ही यह एक अनमोल आयुर्वेदिक ओषधि भी है।

देसी घी को प्रमुख इम्युनिटी बूस्टर के रूप में माना जाता है, यह हमारी आंखों, पाचन तंत्र के लिए उपयोगी है।

देसी घी एक बेहतरीन एंटीबायोटिक है जो सर्दी-खांसी के दौरान मददगार है।

शुद्ध देसी घी का उपयोग घावों को भरने के लिए भी किया जाता है।

प्रेग्नेंसी के दौरान देसी घी का सेवन जच्चा और बच्चा दोनों को पोषण प्रदान करता है।

Recipe Summary:

Share Recipe!
 

One Response

  1. Sujata Gupta

    Nice and easy recipe

    (5/5)
    Reply

Leave a Reply

Rate Racepe!*