बथुआ की सब्जी – Bathua ki Bhaji – Bathua Recipe

reena gupta By Reena Gupta, On

बथुआ की सब्जी उत्तर भारत में सर्दियों के मौसम का प्रमुख व्यंजन है। इस bathua recipe में स्टेप्स और चित्रों के साथ बथुआ की भाजी बनाने का तरीका शेयर कर रहे हैं।

बथुआ भाजी बनाने की मुख्य सामग्री ताजा-ताजा बथुए की हरी पत्तियां ही होती हैं इनको काट कर उबाल कर चुनिंदा मसालों के साथ भून कर स्वादिष्ट बथुआ की सब्जी को बनाया जाता है आप अपने स्वादानुसार भुजिया में आलू, सोयाबीन की बड़ी या पालक और सरसों का साग मिला सकते हैं।

बथुआ सर्दियां शुरू होते ही बाजार में बहुतायत में मिलने लगता है। औषधीय गुणों से भरपूर बथुआ (बथुए) में आयरन प्रचुर मात्रा में होता है, बथुआ न सिर्फ पाचनशक्ति बढ़ाता बल्कि जाड़ों की अनेक बीमारियों से हमें छुटकारा दिलाता है। बथुआ की पत्तियों में विटामिन ए की सर्वाधिक मात्रा 11300 IU पाई जाती है।

बथुआ की भाजी एक सूखी सब्जी होती है इसलिये इसको लंच या डिनर में अन्य तरी वाली सब्जी या दाल चावल के साथ सर्व कीजिये। परिवार में सभी इस पौष्टिक सब्जी को सादा पराठे या फुल्के (रोटी) के साथ बहुत पसंद करेंगे।

आइये जानते हैं बथुआ की सब्जी कैसे बनाएं और bathua ki bhaji के उपयोगी टिप्स को….

 bathua bhurji recipe

बथुआ की सब्जी बनाने की सामग्री:-

  • बथुआ (Wild Spinach) – 500 ग्राम
  • हींग (Asafoetida) – 1 चुटकी
  • जीरा (Cumin Seed) – 1/2 चम्मच
  • हरी मिर्च बारीक कटी हुई (Green Chilli ) – 1
  • हल्दी पाउडर/ पिसी हल्दी (Turmeric) – 1/2 चम्मच
  • नमक (Salt) – स्वादानुसार
  • लाल मिर्च पाउडर/ पिसी मिर्च (Red chilli ) – स्वादानुसार
  • लाल मिर्च, साबुत (Red Chilly) – 2
  • अदरक,बारीक कटा हुआ (Ginger) – 1 चम्मच
  • सरसों का तेल (Mustard Oil) – 2 चम्मच तड़के के लिये

बथुआ की सब्जी बनाने की विधि:-

bathua ki dry sabji recipe 1

बथुए की भाजी या भुजिया बनाने के लिये सबसे पहले हरे बथुआ के डंठल तोड़ कर मुलायम पत्तियों को पानी में धो लीजिये।

इसके बाद किसी बर्तन में चित्रानुसार बथुए की पत्तियों को एक गिलास पानी के साथ उबाल कर नरम कर लीजिये।

bathua ki dry sabji recipe 2

उबाली हुई नरम बथुआ की पत्तियों को छलनी की सहायता से छान कर चित्रानुसार उनको पानी से अलग कर लीजिये।

bathua ki dry sabji recipe 3

अब बथुए की पत्तियों को पीस कर उनका गाढ़ा पेस्ट बना लीजिये।

पहले समय में तो सिल-बट्टे से बथुए को पीसा जाता था पर आज कल तो आप इसको मिक्सर की सहायता से भी दरदरा पीस सकते हैं।

bathua ki dry sabji recipe 4

अब बारी आती है बथुए की स्वादिष्ट भुजिया बनाने की इसके आप एक कढ़ाही में तेल गर्म कीजिये।

गर्म तेल में हींग जीरे को चटका कर इसमें कटी हुई हरी मिर्च, अदरक के बारीक टुकड़े, हल्दी पाउडर और लाल मिर्च पाउडर डाल कर चमचे से लगातार चलाते भून लीजिये।

bathua ki dry sabji recipe 5

तैयार तड़के में पिसे हुए बथुए को मिलाइये और इसमें स्वादानुसार नमक को मिक्स कर लगातार चलाते हुए भुजिया को पका लीजिये।

बथुआ की भुजिया को ढक्कन खुला ही चलाते हुए पकाइये इसमें लगभग दो मिनट का समय लगेगा।

bathua ki dry sabji recipe 6

स्वादिस्ट और पौष्टिक बथुआ की भुजिया तैयार है, सर्विंग बाउल में निकालिये परांठे या चपाती (फुल्का) के साथ परोसिये और खाइये।

.

बथुआ की भाजी के टिप्स :-

आइये जानते हैं कुछ ऐसे सुझाव जो की अनेक स्वादों में Bathua ki Sabji बनाने और स्टोर करने में आपको उपयोगी लगेंगे….

बथुआ की सब्जी के लिये बथुए का चयन :-

बाजार में बथुआ गड्डियों में मिलता है, इस लिये पहले आप गड्डी खोल कर यह सुनिश्चित कर लीजिये कि बंडल में अंदर भी बथुआ ही हो क्योंकि कई बार अन्य घास भी गड्डी में भर देते हैं।

साफ-साफ ताजा हरी पत्ती वाला बथुआ लीजिये जिसकी पत्तियां कटी-फटी और गली हुई न हों, ऐसे बथुए के सभी व्यंजन जैसे बथुए का पराठा, बथुए का रायता इत्यादि स्वादिष्ट बनेंगे।

साबुत बथुआ की पत्तियां उबालने की जगह अगर आप कटी हुई पत्तियों को उबालकर यूज करेंगे तब सब्जी ज्यादा स्वादिष्ट बनेगी।

बथुआ आलू की सब्जी :-

पहले उबले हुए आलुओं को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लीजिये। कढ़ाई में घी डाल कर हींग जीरे का तड़का लगा कर उसमें स्वादानुसार प्याज को भून लीजिये, भुनी प्याज के तड़के में आलू के पीस और उबाली हुई बथुए कि पत्तियों को अन्य मसालों के साथ भून कर स्वादिष्ट आलू बथुए की सब्जी बना कर सर्व कीजिये, बच्चे इसको बहुत पसंद करते हैं।

पालक सरसों बथुए का साग :-

बथुए की पत्तियों के साथ ही थोड़ी पालक और सरसों की पत्तियों को काट लीजिये और इसी विधि से उबाल कर इन्हीं मसालों के साथ इसी तरह से साग बना लीजिये। अगर आपको लगा लिपटा साग पसंद है तब पानी की मात्रा बढ़ा कर लगातार चलाते हुए गाढ़ा होने तक पका लीजिये। साग को मक्खन से गार्निश करके सर्व कीजिये सभी को यह क्लासिक स्वाद पसंद आयेगा।

बथुआ के औषधीय गुण :-

आयुर्वेदिक विद्वानों ने बथुआ को भूख बढ़ाने वाला पित्तशामक एवं मलमूत्र को साफ और शुद्ध करने वाला माना है। बथुए का सेवन आंखों के लिए लाभदायक और पेट के कीड़ों को समाप्त करने वाला है। बथुआ हमारी पाचनशक्ति बढ़ाने के साथ साथ भोजन में रुचि बढ़ाने वाला पेट की कब्ज मिटाने वाला और हमारे स्वर (गले) को मधुर बनाता है।

बथुआ के अन्य नाम :-

आमैरंथीसिआई कुल के बथुआ को चिनोपोडियम एलबम कहते हैं। गुजरात में इसको चील और अंग्रेजी में Lamb’s Quarter, White Goosefoot, Wild Spinach कहा जाता है।

अन्य पारंपरिक सब्जियों की रेसिपी :-

Recipe Summary:

Share Recipe!
 

One Response

  1. Jyoti Lathura, Moradabad

    Realy Nice and Useful Artical !!

    (5/5)
    Reply

Leave a Reply

Rate Racepe!*