काली मसूर की दाल – साबुत मसूर की दाल – Malka Masoor Dal Recipe

reena gupta By Reena Gupta, On

काली मसूर (साबुत मसूर) दाल में भी अन्य दालों की तरह प्रोटीन बहुतायत में पाया जाता है. आप चाहें तो इस दाल को शुद्ध घी डाल कर या इसमें प्याज का तड़का लगा कर चावल और रोटी के साथ सर्व सकते हैं।

काली साबुत मलका मसूर दाल को गाढ़ा -गाढ़ा मक्खन या शुद्ध घी का तड़का लगा कर मुलायम फुल्के के साथ परोसा जाता है। उत्तर भारत के ज्यादातर शाकाहारी परिवार सप्ताह में एक या दो दिन काली मसूर दाल को अवश्य खाते हैं, हमारे घर पर कुछ लोग प्याज खाते हैं कुछ नही इसलिये मैंने पहले हींग, जीरे और टमाटर के तड़के के साथ दाल को पकाया है बाद में इसमें प्याज का तड़का अलग से लगाया है।

केवल दस मिनट की तैयारी और बीस मिनट में पक जाने वाली टेस्टी साबुत मसूर दाल को आप भी रेसपी पढ़ कर बहुत आसानी से बना लेंगे..

 malka daal banane ki vidhi

काली मसूर दाल बनाने की सामग्री:-

  • साबुत मसूर दाल – 1 कप
  • हल्दी (पाउडर) – ½ चम्मच
  • धनिया (पाउडर) – 1 चम्मच
  • गरम मसाला (पाउडर) – ½ चम्मच
  • जीरा – 1 चम्मच
  • हींग – 1 चुटकी
  • लाल मिर्च (पाउडर) – स्वादानुसार
  • नमक – स्वादानुसार
  • हरा धनिया – गार्निश के लिये
  • नींबू का रस – टेक्स्चर के लिये
  • प्याज (बारीक कटा हुआ) – 1
  • टमाटर (बारीक कटा हुआ) – 1
  • शुद्ध घी – आवश्यकता अनुसार

काली मसूर दाल बनाने का तरीका :-

 Masoor Dal Recipe step 1

काली मसूर (साबुत मसूर ) दाल को अच्छे से बीनकर 4 कप गुनगुने (हल्के गर्म) पानी में 30 मिनट के लिए भिगो दीजिये ।

 Masoor Dal Recipe step 2

कुकर में हींग जीरे का तड़का लगा कर लाल मिर्च, हल्दी और धनिया पाउडर तड़के में मिला दीजिये।

 Masoor Dal Recipe step 3

तैयार तड़के में कटे हुए टमाटर डाल कर सबको अच्छे से मिक्स कर लीजिये।

 Masoor Dal Recipe step 4

कुकर में भीगी हुई दाल डालें और इसमें स्वादानुसार नमक एवं दो कप पानी डाल दीजिये।

 Masoor Dal Recipe step 5

कुकर का ढक्कन बंद करके दो सिटी लगा लीजिये। पकने के बाद बुजुर्गों और बच्चों के लिये बिना प्याज की दाल निकाल लीजिये।

 Masoor Dal Recipe step 6

एक पेन में घी गर्म करें और उसमें प्याज एवं मनपसंद मसालों को तड़का लीजिये, तड़के को दाल में मिला दीजिये।

 Masoor Dal Recipe step 7

स्वादिष्ट काली मसूर दाल/ खड़ी साबुत मसूर दाल को हरे धनिये की पत्ती से गार्निश करें और अगर आप खट्टा स्वाद पसंद करते हैं तब स्वादानुसार नींबू का रस डाल दीजिये।

मलका मसूर दाल को शुद्ध घी डाल कर चावल, फुल्का एवं हरी चटनी के साथ सर्व कीजिये।

.

उपयोगी सुझाब:

पानी की मात्रा को कम या ज्यादा करके आप अपनी पसंद के हिसाब से दाल को पतला या गाढ़ा कर सकते हैं।

गर्म मसाले को दाल पकाने के बाद ऊपर से डाले, इससे खुशबू और स्वाद दोनों बढ़ जायेंगे।

कसूरी मैथी क्रेश करके दाल में डाले, दाल की सुगंध बहुत बढ़ जाएगी।

आप शुद्ध घी की जगह ऊपर से मलाई या गाढ़ा नारियल का दूध डाल सकते हैं।

बची हुई पकी दाल को एयर टाइट डिब्बे में पलट कर फ्रिज में तीन चार दिन सुरक्षित रख सकते हैं।

काली मसूर की दाल खाने के फायदे :-

मसूर (Lens esculenta) एक दलहन है। इसकी प्रकृति गर्म, शुष्क, रक्तवर्द्धक एवं रक्त में गाढ़ापन लाने वाली होती है। दस्त, बहुमूत्र, प्रदर, कब्ज व अनियमित पाचन क्रिया में मसूर की दाल का सेवन लाभकारी होता है।

मलका मसूर की दाल सुपाच्य होती है। जो की पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में सहायक है साथ ही साथ यह शरीर की चयापचय क्रिया या मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में भी मदद करती है।

इसमें पाए जाने वाले प्रीबायोटिक कार्बोहाइड्रेट को पचाना आसान होता है। रिसर्च में यह पाया गया है कि जो खाद्य पदार्थ प्रीबायोटिक कार्बोहाइड्रेट और डाइटरी फाइबर से समृद्ध होते हैं, वो मोटापा, कैंसर, हृदय रोग और मधुमेह जैसी गैर संक्रमित बीमारियों के जोखिम को कम कर सकते हैं।

कुछ अन्य स्वादिष्ट दालों की सचित्र रेसीपीज :-

Recipe Summary:

Share Recipe!
 

One Response

  1. Avatar Ramesh Singh, New Delhi.

    Awesome recipe, really good job

    (5/5)
    Reply

Leave a Reply

Rate Racepe!*