मूंग दाल चीला – Moong Dal Chilla Recipe

, , Leave a comment

मूंग की दाल का चीला बनाने में आसान और रोटी पराठे का बहुत अच्छा विकल्प है, सुबह के नाश्ते में और बच्चों के लंचबॉक्स के लिये इससे स्वादिष्ट और जल्दी बन जाने वाला दूसरा व्यंजन मुश्किल से ही मिलेगा।

पारंपरिक तरीके से चीला बनाने के लिये मूंग की दाल को पहले पानी में भिगोया जाता है, दाल फूलने के बाद दाल को पीस कर कुछ मसालों के साथ बेटर बना कर कुरकुरे मूंग दाल चीलों को बनाया जाता है। चीलों को हरे धनिये की खट्टी चटनी और मैथी इमली की मीठी सोंठ के साथ सर्व किया जाता है। पीसी हुई दाल से आप चीलों के अलावा आलू मिक्स मूंग दाल की टेस्टी पकोड़ी या दही सोंठ वाली मूंग दाल की पकोड़ी भी बना सकते है।

आंध्र प्रदेश और तेलांगना में पेसारट्टू, पेसरा अट्टू, पेसारा डोसा के नाम से मशहूर मूंग दाल चीले को नाश्ते के रूप में अदरक या इमली की चटनी के साथ परोसा जाता है। मूंग दाल चीले को तमिल में मून परुप्पू चैला और बंगाली में मूम दला किला बोला जाता है।

मूंग दाल चीला बनाने की आसान रेसपी चित्रों एवं टिप्स के साथ आपके सम्मुख है जिसको पढ़ कर आप निश्चित ही मूंग दाल के चीले सरलता से बना लेंगे..

 Moong daal ka cheela

मूंग दाल चीला बनाने की सामग्री:-

  • मूंग दाल (धुली) – 1 कप
  • हींग – 1 चुटकी
  • लाल मिर्च (पाउडर) – स्वादानुसार
  • गर्म मसाला (पाउडर) – 1/2 चम्मच
  • नमक – स्वादानुसार
  • खाद्य तेल – चीला सेकने के लिये

मूंग दाल चीला बनाने का तरीका :-

 moong ki dal ka chila step 1

मूंग की दाल को 3-4 घंटो के लिये पानी में भिगो दीजिये।

 moong ki dal ka chila step 2

भीगी हुई दाल में हींग और हरी मिर्च के साथ थोड़ा पानी मिला कर मिक्सी से बारीक पीस लीजिये।

 moong ki dal ka chila step 3

पिसी हुई दाल को एक बड़े बर्तन में डालिये और लाल मिर्च, गर्म मसाला, स्वादानुसार हरा धनिया और नमक मिला कर अच्छी तरह फैंट लीजिये।

 moong ki dal ka chila step 4

नॉन स्टिक तवा गरम करें और चम्मच से थोड़ा सा तेल तवे पर चुपड़ दीजिये,

दाल के मिश्रण को चमचे में भरकर गरम तवे पर गोल गोल पतला फैलायें।

 moong ki dal ka chila step 5

एक छोटी चम्मच से तेल लेकर गोल चीले के चारों ओर डालें और थोड़ा सा तेल उसके ऊपर डाल दें,

कलछी की सहायता से चीले को पलट दीजिये और दूसरी ओर भी सेक लीजिये।

 moong ki dal ka chila step 6

जब चीला दूसरी ओर भी सिक जाय तो समझ लीजीये आपका स्वादिष्ट मूंग दाल चीला तैयार है।

चीले को प्लेट में रखिये मीठी चटनी और हरे धनिये की खट्टी चटनी के साथ गरमा गर्म परोसिये और खाइये…

.

उपयोगी सुझाब:

सूखी धुली मूंग की दाल को पीस कर उसका पाउडर बना लें। मूंग दाल पाउडर से बेटर बना कर मूंग दाल का चीला बनाया जा सकता है।

पनीर को कद्दूकस से घिस लें, उसमें स्वादानुसार मसाले मिला कर स्टफिंग तैयार कर लें, इस स्टफिंग को मूंग दाल के चीले में भर कर पनीर भरे मूंग दाल के भरवां चीले बना लीजिये।

इसी तरह हरी सब्जियां या आलू भर आर भी आप मूंग दाल के स्टफड़ चीले बना सकते हैं।

मूंग की दाल का सेवन बजन को बढ़ने नही देता अतः वैट लॉस के लिये मूंग दाल का चीला उपयुक्त व्यंजन है।

मूंग खाने के फायदे:-

मूँग साबुत हो या धुली , पोषक तत्वों से भरपूर होती है। अंकुरित होने के बाद तो इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्वों केल्शियम, आयरन, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और विटामिन्स की मात्रा दुगनी से भी ज्यादा हो जाती है। मूँग बहुत शक्तिवर्द्धक होती है। बुखार और कब्ज के रोगियों के लिए इसका सेवन करना लाभदायक होता है।अनेक स्वादिष्ट व्यंजन साबुत मूंग और मूंग की दालों से बनाये जाते हैं।

Recipe Summary:

Share Recipe!
 

Leave a Reply

Rate Racepe!*