मेवा की पंजीरी – मेवा पाग – Dry Fruits Varfi

, , Leave a comment

Advertisement

भारतवर्ष में सभी प्रमुख त्योहारों में जन्माष्टमी का त्योहार अपना एक विशेष स्थान रखता है भगवान श्री कृष्ण के जन्मदिन के उपलक्ष में हम लोग यह व्रत रखते हैं। बचपन से हम देखते आ रहे हैं कि इस दिन भगवान का भोग इसी मेवा पाग, धनिये की पंजीरी और पंचामृत से लगता है। वैसे तो सर्दियों के दिनों में कभी भी हम इस पंजीरी को खा सकते हैं लेकिन जन्माष्टमी के दिन इसका अपना विशेष महत्व है आइए आपको इस पंजीरी को बनाने की आसान विधि बताते हैं….

 Dry Fruits Varfi

फलाहारी मेवा पाग बनाने की सामग्री:-

  • खरबूजे की मींग – 50 ग्राम
  • मखाने – 50 ग्राम
  • गोला (कसा हुआ) – 50 ग्राम
  • सूखा हुआ गोंद – 25 ग्राम
  • खसखस – 25 ग्राम
  • काजू – 50 ग्राम
  • बादाम – 50 ग्राम
  • शुद्ध घी 1 कप
  • चीनी – 500 ग्राम
  • पानी – डेढ़ कप

फलाहारी मेवा पाग बनाने की विधि:-

कढ़ाई में गोले को भूनें और इसे अलग रखें।

Advertisement

इसी तरह इसी कढ़ाई में खसखस को भूनें उसे अलग रखें।

 Dry Fruits Varfi a

अब खरबूजे की मींगें लें और उसे भी कढ़ाई में भून कर अलग रख ले।

अब कढ़ाई में शुद्ध घी डालें और इसमें बादाम और काजू तल लें।

गोंद को दरदरा करें और उसे उसी कढ़ाई में तले (गोंद कचरी की तरह फूल जाएगा)

अब इसी कढ़ाई में मखाने डाल कर भूने।

अब सारी सामिग्री को मिला कर ठंडा होने रख दे। ठंडा होने के बाद सभी सामिग्री को मिक्सी में दरदरा पीस लें।

एक कड़ाही में चाशनी तैयार करें। इसे चेक करने के लिए एक छोटे चम्मच में चाशनी को निकाल कर उसे ठंडा कर लें और दो उंगलियों के बीच रख कर चिपका कर देखें।

 Dry Fruits Varfi b

अगर उंगलियों के बीच दो तार जैसा बनता है, तो समझ लें कि आपकी चाशनी तैयार है। चाशनी गाढ़ी होनी चाहिए जिसे अगर प्लेट में टपकाया जाये तो वह अंगुली से फैलाने पर जम जाए।

एक थाली में घी लगाकर उसको चिकना कर लें।

अब तैयार चाशनी में मिक्स मेवा डालकर अच्छी तरह मिला लें।

गर्मागर्म मिश्रण घी लगी थाली में डालकर फैला दें। ऊपर से चमचे की सहायता से दबा दें।

ठंडा होने पर मन चाहे आकार में काट कर एयर टाइट डिब्बे में रख लें।

उपयोगी सुझाब:

यह पंजीरी बहुत ही पोस्टिक और स्वास्थवर्धक होती है।

इस पौष्टिक पंजीरी को सर्दी के मौसम में सामान्यता खानी चाहिए।

इस पंजीरी का प्रयोग जच्चा के खाने के लिए भी होता है।

एक साफ़ कंटेनर में इसे पंद्रह दिनों तक स्टोर करके रख सकते हैं।

मेवा की पंजीरी सभी ब्रत में खाई जाती है।

व्रत / उपवास के लिए अन्य मिठाई की रेसिपी जाने:

Recipe Summary:

 

Leave a Reply

Rate Racepe!*