मूंगफली गुड़ की चिक्की रेसिपी – Peanut Chikki Benefits

, , Leave a comment

लोहड़ी, पोंगल और मकर संक्रांति के अवसर पर बनायी जाने वाली मूंगफली / सींगदाने / मोगली की चिक्की / पट्टी सर्दियों में खाया जाने वाला एक पारम्परिक स्नेक है।

मूंगफली की चिक्की को बच्चे क्या बड़े भी चॉकलेट की तरह पसंद करते हैं, सर्दियों के मौसम में किसी भी समय और किसी भी मौके पर सबको पसंद आने वाली इस टेस्टी मिठाई को घर पर बनाना बहुत आसान है आप भी गुड़ पट्टी बनाने की विधि और इसके सेवन से होने वाले फायदों को जान लीजिये…..

 singdaana chikki

चिक्की बनाने की सामग्री:-

  • मूंगफली के दाने – 1 कप
  • गुड़ (कद्दूकस किया हुआ) – 1 कप
  • घी (ट्रे या थाली में लगाने के लिए) – 1 चम्मच
  • पानी – 2 चम्मच

चिक्की बनाने की विधि:-

 singdaana chikki step 1

01:- सबसे पहले गैस ऑन करके एक पेन गरम करे और इसमें धीमी आंच पर मूंगफली के दानो को भूनें 2-3 मिनट के बाद गैस को बंद कर दे , सींगदानो को ठंडा होने दे।

 singdaana chikki step 2

02:- मूंगफली के दानो को ठंडा होने के बाद दानो हाथो से मसल ले, जिससे दानो का छिलका अलग हो जायेगा।(आप चाहे तो दानो को माइक्रोवेव में भी भून सकते है।)

 singdaana chikki step 3

03:- आप गुड़ की चाशनी तैयार करने के लिए गैस ऑन करे और पेन में 2 चम्मच पानी डाल कर गर्म करे और उसमें गुड़ को डाल दे।

 singdaana chikki step 4

04:- लगातार 2 मिनट तक गुड़ को मेल्ट होने तक चलाये और चाशनी को चलाते हुए पकने दे।

 singdaana chikki step 5

05:- जब आप की चाशनी गाढ़ी होने लगे तब भुने हुए मूंगफली के दाने डाल कर धीमी आंच पर लगातार 1 मिनट के चलाये।

 singdaana chikki step 6

06:- अब एक ट्रे या थाली को घी लगाकर चिकनी कर ले और मूंगफली और गुड़ के मिश्रण को थाली या ट्रे में पलट दे और पानी लगे चम्मच से मिश्रण को फैला दे।

 singdaana chikki step 7

07:- मिश्रण थोड़ा ठंडा होने लगे तो चाकू की सहायता से कट के निशान लगा ले। और पूरी तरह से ठंडा होने के बाद हाथो से तोड़ ले।

 singdaana chikki step 8

08:- लीजिये तैयार हो गयी आपकी गुड़ से बनी सींगदाने (मूंगफली) की चिक्की।

.

गुड़ और मूंगफली की चिक्की खाने के फायदे :-

मूंगफली में आयरन, फोलेट, कैल्शियम और जिंक प्रचुर मात्रा में होता है, इसलिए इसके ये सभी गुण मूंगफली चिक्की में भी मिलेंगे।

मूंगफली में मोनो इनसैचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं, जो की खराब कोलस्‍ट्रॉल को कम कर अच्‍छे कोलेस्‍ट्रॉल को बढाते हैं, इसलिए ये कोलेस्‍ट्रोल के रोगियों के लिए रामबाण ओषधि का काम करती है।

गुड़ का सेवन सर्दियों में काफी अच्‍छा माना जाता है, गुड़ की तासीर गर्म होती है. इस कारण ये सर्दी, जुकाम और कफ से राहत दिलाता है।

गुड़ पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है,भोजन के बाद गुड़ खाने से पेट में गैस नहीं बनती और कब्ज की शिकायत भी नहीं रहती।

उपयोगी सुझाब:

मूंगफली के दानो को कढ़ाई या माइक्रोवेव में भून कर उनके छिलके को आसानी से छूटा सकते हैं। मूंगफली के दानो को माइक्रोवेव में भूनने की विधि जान लीजिये।

चिक्की को स्टील की ट्रे या थाली में जमायें, जिससे अगर जयदा टाइट जमने से निकालने में दिक्कत हो तब हल्का गर्म करके आसानी से निकाल सकते हैं।

गुड़ की चाशनी को ध्यान से पकायें चाशनी के ज्यादा पकने से चिक्की कड़वी और कम पकने से चिपचपी बनेगी।

मूंगफली चिक्की की तरह ही आप तिल की चिक्की भी बना सकते हैं।

सींगदाने की पट्टी / चिक्की सफर के लिए एक परफेक्ट स्नैक है।

Recipe Summary:

Share Recipe!
 

Leave a Reply

Rate Racepe!*