लड्डू – बूंदी के लड्डू (मोतीचूर के लड्डू) – Bundi ke Laddu (Ladoo)

reena gupta By Reena Gupta, On

लड्डू को हर खुशी और त्योहार के अवसर पर भारतीय परिवारों में खाने और खिलाने का चलन है। लड्डू बेसन से तैयार बूंदी (मोतीचूर) से बनाये जाते हैं। लड्डू रेसिपी में हमने सरल स्टेप्स सहित अनेक चित्रों के साथ बूंदी के लड्डू बनाने का तरीका शेयर किया है।

बूंदी के लड्डू में बूंदी नाम हिंदी शब्द ‘बूंद’ से लिया गया है। बूंदी चने के आटे (बेसन) से बनती है। मोती के आकार के छोटे गोल-गोल मोती जैसी बूंदी को घी में तल कर बनाया जाता है। फिर बूंदी को चाशनी में भिगोने के बाद गेंद के आकार में बूंदी या मोतीचूर के लड्डू को बनाया जाता है।

बूंदी के लड्डू दो तरह के होते हैं। एक मुलायम रस भरा होता है और दूसरा सूखा और थोड़ा सख्त होता है। इन दोनों लड्डुओं की बनावट में चाशनी बनाने और उसकी स्थिरता में कुछ बदलाव किए जाते हैं जिसका उल्लेख हमने लड्डू रेसिपी के उपयोगी सुझावों में किया है।

मंगलवार और शनिवार को भगवान बजरंगवली हनुमान जी का भोग इन्ही लड्डुओं से लगाते हैं। अनेक प्रसिद्ध मंदिर में भक्तों को प्रसाद के रूप में लड्डू मिलते हैं इनमें भारत के आंध्र प्रदेश का तिरुपति मंदिर और महाराष्ट्र का शिरडी साईं मंदिर प्रमुख है।

अगर आप सोच रहे हैं की घर पर बूंदी के लड्डू कैसे बनाये ? तब हम आपको बूंदी या मोतीचूर के लड्डू बनाने की विधि, लड्डू बनाने की आवश्यक सामग्री और यूजफुल टिप्स को चित्रों के साथ सिखा रहे हैं….

 Boondi ke Ladoo

बूंदी के लड्डू बनाने की सामग्री:-

  • बेसन (Gram Flour) – 2 कप
  • शुद्ध घी / देसी घी (Desi Ghee) – 2 कप
  • मेवा, बारीक कटी हुई (Chopped Dry Fruits ) – 1/2 कप
  • इलायची पाउडर (Cardamom) – 1 चम्मच
  • खरबूजे की मींग (Melon seed) – 2 चम्मच
  • चीनी (Sugar) – 2 कप
  • पानी (Water) – 2 कप
  • खाद्य पीला रंग (Edible Food Color) – 1/2 चम्मच
 Boondi ke Ladoo Recipe step 1

01:-लड्डू बनाने के लिये सबसे पहले एक बर्तन में बेसन छान कर उसमें थोड़ा-थोड़ा पानी मिलाते हुए घोल तैयार कर लीजिये। घोल को चैक कीजिये कि वह एक धार से निचे गिरे।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 2

02:-बूंदी बनाने के लिये एक कढ़ाई में घी गरम करके साइज़ के हिसाब से छेदों वाली करछुल लेकर उस पर बेसन का घोल चित्रानुसार डालिये, थोड़ा-थोड़ा करछुल को हाथ से हिलाइये, जिससे बूंदी आसानी से कढ़ाई में गिरने लगे।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 3

03:- चित्रानुसार बूंदी को धीमी आंच पर तल लीजिये।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 4

04:- तैयार बूंदी को कढ़ाई से निकालने के लिए एक छलनी का प्रयोग कीजिये जिससे बूंदी का सारा एक्स्ट्रा घी कढ़ाई में ही निकल जायेगा।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 5

05:-अब एक ट्रे लेकर उसमें तली हुई सारी बूंदी निकाल कर अलग रख लीजिये।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 6

06:-चाशनी तैयार करने के लिए चित्रानुसार एक कढ़ाई में चीनी और पानी डाल कर 5 मिनट्स तक पकाइये।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 7

07:-चाशनी में खाने वाला पीला रंग मिलाइये और 10 मिनट तक पकने के बाद आपकी चाशनी तैयार हो जायेगी।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 8

08:-तैयार चाशनी में तली हुई बूंदी को पलटिए और धीमी आंच पर 10 मिनट तक पकाइये, बीच-बीच में आप बूंदी को चलाते रहिये। तय समय बाद गैस बंद कर दीजिये।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 9

09:-कढ़ाई में बूँदी के साथ कटे हुए मेवा, खरबूजे की मींग और इलायची पाउडर मिलाइये और बूंदी को चाशनी सोखने के लिए 1 घंटे का समय दीजिये इसके लिये मिश्रण को ढक कर अलग रख दीजिये।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 10

10:-बूंदी के लड्डू बनाने के लिये अपने हाथों पर पानी लगाइए और बूंदी का मिश्रण लेकर दोनों हाथों की सहायता से नीबू के आकार के गोल-गोल लड्डू बना लीजिये।

 Boondi ke Ladoo Recipe step 11

11:-इसी तरह से सारे मिश्रण के लड्डू बना लीजिये और एक ट्रे में आधे घंटे के लिए खुला रख दीजिये जिससे सारे लड्डू ऊपर से सूख जायेंगे। लीजिए तैयार हो गए आपके स्वादिष्ट बूंदी के लड्डू।

.

उपयोगी सुझाब:

आइये जानते हैं कुछ ऐसे सुझाव जो की स्वादिष्ट बूंदी के लड्डू बनाने में निश्चित ही आपको उपयोगी लगेंगे….

बूंदी के लड्डू के लिये मोती जैसी गोल-गोल बूंदी कैसे बनायें?

आप सुनिश्चित कीजिये की बूंदी बनाने की कलछी के छेद ज्यादा छोटे या बड़े नहीं होने चाहिये, उन्हें मध्यम आकार का होना चाहिए।

बूंदी बनाने के लिए बेसन के घोल को फैंट कर चिकना बनाइये उसमें गाँठे बिल्कुल भी नहीं होनी चाहिये।

बेसन का घोल (बेटर) बहुत ज्यादा पतला या बहुत ज्यादा गाढा़ नहीं होना चाहिए, घोल अगर ज्यादा गाढ़ा हो गया तो आपको पूंछ वाली बूंदी मिलेगी और अगर बैटर बहुत पतला है तो बूंदी चपटी बनेगी।

रंग बिरंगी बूंदी कैसे बनायें?

बेसन के घोल में खाने योग्य थोड़ा पीला रंग मिला लीजिये जिससे बूंदी चटक रंग की बनेगी जिससे लड्डू बहुत अच्छे दिखेंगे।

कुछ जगह पर पीली बूंदी के साथ थोड़ी रंग बिरंगी बूंदी मिला कर बूंदी के लड्डू बनाने का चलन है इसके लिये थोड़ा बेटर अलग बर्तन में ले कर उसमें मन पसंद फूड कलर मिक्स करके उसकी इसी तरह से बूंदी बना लीजिये।

बूंदी तलने में क्या साबधानी बरतें?

बूंदी तलने के लिए तेल को मध्यम गर्म ही रखिये।

बूंदी को क्रिस्पी मत बनाइये, ज्यादा क्रिस्पी बूंदी चाशनी को सोख नहीं पाएगी जिससे लड्डू नरम नहीं बन पायेंगे।

बूँदी के लड्डू के लिये कैसी चाशनी ठीक रहेगी?

अगर आप बूंदी के लड्डू नरम-मुलायम और रस भरे बनाना चाहते हैं तब चाशनी को पतला बनाइये। यह लड्डू सॉफ्ट और रसीले होते हैं एवं यह कमरे के तापमान में तीन-चार दिन तक खाने योग्य ठीक रहते हैं।

थोड़े सख्त लड्डू को पसंद करने बालों के लिये चाशनी को थोड़ी गाढ़ी बना लीजिये इससे बूंदी के लड्डू सूखे और टाइट बनेगे, इन लड्डुओं की सेल्फ लाइफ भी ज्यादा होगी यह लड्डू रूम टेम्परेचर में स्टोर करके आठ दिनों तक खाये जा सकते हैं।

मोतीचूर (बूंदी) के लड्डू को सुगंधित बनाने के लिये चीनी के साथ पानी में थोड़ी केसर की पत्ती मिक्स कर चाशनी बनाइये, लड्डू का रंग और उनकी सुगंध लाजबाब हो जायेगी।

अन्य सुझाव :-

पहले प्रयास में अगर बूंदी गोल न भी बने तब भी आप अगला प्रयास जरूर कीजिये। आप यकीन मानिये यह बूंदी भी स्वाद में उतनी ही अच्छी ही बनेगी, इसको चाशनी में पाग कर किसी एयर टाइट जार में भर कर रेफ्रिजरेटर में स्टोर कीजिये और डेसर्ट के रूप में परिवार में थोड़ी-थोड़ी सबको सर्व कीजिये निश्चित ही सभी पसंद करेंगे।

तैयार तली हुई बूंदी को ऐसे ही सूखी एयर-टाइट कंटेनर में स्टोर करके रख लीजिये, इसकी सेल्फ लाइफ बहुत होती है और इसी बूँदी को दही में मिक्स करके स्वादिष्ट बूंदी का रायता बनाया जाता है।

बूंदी के लड्डू के अन्य नाम :-

बूंदी के लड्डू को उत्तर भारत में मोतीचूर के लड्डू, नुक्ति के लड्डू बंगाली में बुदारिया लद्दूसया, तमिल में पुनटी लटास और इंग्लिश में Bundi Laddus कहते हैं।

अन्य स्वादिष्ट चटनी की सचित्र रेसीपीज :-

Recipe Summary:

Share Recipe!
 

One Response

  1. Ramotaar Garg Deoband

    Very well explained with pictures, nice recipe thanks

    (5/5)
    Reply

Leave a Reply

Rate Racepe!*