सूजी का हलवा – सूजी का हलवा प्रसाद – Suji ka halwa Recipe

reena gupta By Reena Gupta, On

सूजी का हलवा नवरात्रि में कन्या पूजन, दिवाली, गणेश चतुर्थी या घर पर आयोजित किसी धार्मिक समारोह अथवा उत्सव के अतिरिक्त जब भी कभी कुछ मीठा खाने का मन हो आसानी से घर पर बन जाने वाली मिठाई है।

नवरात्रि उत्सव की नवमी पूजा के अवसर पर हमेशा सूजी का हलवा पूरी और काले चने का प्रसाद अवश्य बनाया जाता है। इस दिन हम छोटी लड़कियों (कंजक) को काला चना, सूजी का हलवा प्रसाद का भोग लगाते हैं जो देवी मां की प्रतीक होती हैं। देवी माँ के भंडारों में प्रसाद के रूप में पूरी और भंडारे वाला सूजी का हलवा दिया जाता है।

सूजी का हलवा प्रसाद बनाने की मुख्य सामग्री सूजी (रवा), चीनी और शुद्ध घी है। आप अपने स्वादानुसार इसको पानी या दूध किसी के भी साथ बना सकते हैं और हलवे को मनपसंद मेवा से गार्निश कर सकते हैं।

सूजी का सूखा हलवा दक्षिण भारत में रवा केसरी के नाम से लोकप्रिय है इसमें आमतौर पर नारंगी फूड कलर मिलाया जाता है। लेकिन आप इसमें प्राकृतिक रंग, स्वाद और सुगंध के लिये केसर के धागे या केसर पाउडर का प्रयोग कर इसके स्वाद को क्लासिक बना सकते हैं।

इस Suji ka halwa Recipe में अनेक चित्रों और सरल स्टेप्स के साथ दानेदार सूजी का हलवा प्रसाद बनाने की विधि, शीरे के स्वाद और पकाने सम्बन्धी सुझाव शेयर किए हैं…..

 Suji ka halwa

सूजी का हलवा बनाने की सामग्री:-

  • सूजी / रवा (Semolina) – 1 कप
  • शुद्ध घी / देसी घी (Desi Ghee) – 1 कप
  • चीनी (Sugar) – 1 कप
  • काजू (Cashew) – 10-12 (बारीक कटे हुए)
  • किशमिश (Raisins) – 10-12 (बारीक कटे हुए)
  • खरबूजे की मींग (Melon seed) – 1 चम्मच
  • छोटी इलाइची (Green Cardamom) – 1 चम्मच (पाउडर)
  • गोला नारियल (Coconut) – 2 चम्मच (कसा हुआ)
  • पानी (Water) – 3 कप

सूजी का हलवा बनाने की विधि:-

suji ka halwa step 1

सूजी (रवा) का हलुआ बनाने के लिये सबसे पहले एक पेन या कढ़ाई में घी गर्म कीजिये।

उसमें सूजी डाल कर कलछी (करछली) से चलाते हुए चित्रानुसार अच्छी तरह से भून लीजिये।

(जब सूजी गोल्डन ब्राउन (सुनहेरी) हो जाए और उसमे भीनी-भीनी खुशबू आने लगे तो समझिये की सूजी भुन चुकी है)

suji ka halwa step 2

सूजी भुनने के बाद कढा़ई में सूजी के साथ तीन कप पानी डालिये और धीमी आँच पर बीच-बीच में चलाते हुए सूजी को पकाइये।

suji ka halwa step 3

जब सूजी थोड़ी फूलने लगे तब इसमें चीनी मिला कर हलवे को लगातार चलाते हुए पकाइये।

suji ka halwa step 4

जब हलवा गाढ़ा होने लगे तब इसमें काजू, किशमिश और इलाईची पाउडर मिला कर चला दीजिये।

सूजी का हलुआ पकने के बाद गैस को बंद कर दीजिये।

suji ka halwa step 5

आपका स्वादिष्ट सूजी का हलवा तैयार है, मन पसंद मेवों से गार्निश कर भोग लगाइये और प्रसाद के रूप में बांटिये।

.

उपयोगी सुझाब:-

आइये जानते हैं कुछ ऐसे सुझाव जो की स्वादिष्ट सूजी का हलवा बनाने में निश्चित ही आपको उपयोगी लगेंगे….

सूजी भूनने सम्बन्धी सुझाव :-

नॉन स्टिकी हलवा बनाने के लिए सूजी को अच्छे से भूनना बहुत ज़रूरी है इसके लिये सूजी को मध्यम आंच पर लगातार चलाते हुए हल्का सुनहरा होने तक भूनिये अगर आप हलवे का रंग गहरा सुनहरा पसंद करते हैं तब आप सूजी को 1-2 मिनट के लिए और भून सकते हैं। सूजी डीप रोस्ट करने से सूजी के हलवे में अखरोट की सी खुश्बू आ जाएगी।

दूध में सूजी का हलवा बनाने की विधि :-

रवे के हलवे को अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिये पानी की जगह दूध का उपयोग कीजिये बहुत टेस्टी हलुआ बनेगा। आप स्वादानुसार आधा दूध और आधा पानी भी इस्तेमाल कर सकते हैं। बाकी सारी विधि यही रहेगी।

गुड़ के साथ सूजी का हलवा बनाने की विधि :-

स्वास्थ को देखते हुए आप चीनी की जगह गुड़ मिला कर भी सूजी का हलवा बना सकते हैं इसके लिये पहले पानी में गुड़ को गर्म कीजिये जब सारा गुड़ पिघल जाए तब घोल को छान लीजिये ताकि उसमें से अशुद्धियाँ निकल जाएँ। फिर गुड़ के घोल को भुनी हुई सूजी में डाल कर इसी विधि से हलुआ पका लीजिये।

सफेद चीनी की जगह इसी मात्रा में ब्राउन शुगर डाल कर भी आप स्वादिष्ट सूजी का हलवा बना सकते हैं।

हलुआ पकाते समय की सावधानी:-

अगर आप ज्यादा मात्रा में सूजी के हलुए को बना रहे हैं तब सूजी में पानी सावधानी से डालिये क्योंकि गर्म पानी डालने पर इसमें एक बार तो बहुत अधिक छींटे आती हैं।

क्या सूजी के हलवे में कपूर मिलाया जाता है:-

दक्षिण और पश्चिम भारत में कुछ धार्मिक अवसरों और मंदिरों में सूजी का हलवा प्रसाद खाद्य कपूर (पचा करपुरम) के साथ बनाया जाता है। हलवे में खाने योग्य कपूर मिलाना आपकी इच्छा पर निर्भर है आप स्वादानुसार इसमें एक चुटकी खाने योग्य कपूर मिला सकते हैं।

सूजी खाने के फायदे:-

सूजी गेहूँ को मोटा पीस कर बना एक दानेदार खाद्य आहार है। सूजी में फाइबर, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन बी कांपलेक्स और विटामिन ई की मात्रा बहुत ज्यादा पाई जाती है। जबकी इसमें फैट, कोलेस्ट्रोल और सोडियम की मात्रा बिल्कुल नहीं होती है। सूजी से बने किसी भी व्यंजन का सेवन आपके शरीर के लिये बहुत लाभदायक है इसको खाने से शरीर में शुगर बढ़ने का खतरा और ब्लड प्रेशर जैसी समस्या बहुत कम होती है।

सूजी, मैदा और आटा इन तीनों में क्या अंतर होता है?

ये तीनों ही पदार्थ गेहूँ को पीस कर बनाये जाते हैं। इसमें बिल्कुल महीन पाउडर मैदा है, सूजी दानेदार होती है तथा आटा इन दोनों का मध्यम रूप है।

कुछ अन्य स्वादिष्ट सचित्र रेसीपीज :-

Recipe Summary:-

Share Recipe!
 

One Response

  1. ज्योति गेरा, ग्रेटर नोएडा

    नाइस रेसपी, अच्छे चित्र और बहुत सरल तरह से समझाया है।

    (5/5)
    Reply

Leave a Reply

Rate Racepe!*